रविवार, 11 अप्रैल 2010

एक बार संता ने एक लड़की को कमल का फूल दिया. लड़की ने संता के गाल पर जोर का तमाचा मारा. संता बोले, "मैं तो भाजपा का प्रचार कर रहा था." लड़की ने जवाब दिया, "मैं भी तो कांग्रेस का प्रचार कर रही हूं."


एक बार संता ने शराब पी ली। पत्‍नी ने उनकी जमकर धुनाई की। संता फिर भी नहीं माने, सोचा बीवी को कैसे समझाएं। हल खोजने के लिए संता ने फिर शराब पी और सड़क पर निकल पड़े। रास्‍ते में एक भिखारी मिला-
संता- बोल तुझे क्‍या चाहिए
भिखारी- बोला दो पैसे देदो साहब
संता- मेरे पास पैसे नहीं शराब है, पियेगा क्‍या
भिखारी- नहीं साहब, मैं शराब छूता तक नहीं
संता- सही बता तू कभी शराब नहीं पीता
भिखारी- सरकार, भगवान कसम कभी नहीं
संता- तो तू मेरे काम का आदमी है, चल मेरी पत्‍नी के पास
भिखारी- पत्‍नी के पास क्‍यों ले जा रहे हैं?
संता- मैं उसको बताउंगा कि शराब न पीने वालों की हालत क्‍या हो जाती है 

संता घर पहुंचे तो पत्‍नी ने उनके सिर पर बेलन दे मारा
संता- अरे भागवान क्‍यों मा रही हो, मैने तो शराब छोड़ दी है
पत्‍नी- ये बसंती कौन है, तुम्‍हारी जेब में कागज था, उसमें बसंती लिखा था
संता- अरे बसंती घोड़ी है, मैने उस पर पैसा लगाया था
पत्‍नी- अरे मुझे माफ करना
सुबह उठते ही पत्‍नी ने संता के सिर पर फिर बेलन दे मारा
संता- अरे अब क्‍या हुआ
पत्‍नी- तुम्‍हारी घोड़ी का फोन है

अमेरिका से आए एक पर्यटक ने संता से पूछा
पर्यटकः क्या इस गांव में किसी महापुरुष का जन्म हुआ था?
संताः नहीं इस गांव में सिर्फ बच्चों का जन्म हुआ है.....


बंता: मरते वक्‍त आदमी को क्‍या देना चाहिए.
संता: बिरला सीमेंट
बंता: क्‍यूं?
संता: क्‍योंकि इस सीमेंट में जान है. 

4 टिप्‍पणियां:

  1. अच्छी प्रस्तुति। बधाई। ब्लॉगजगत में स्वागत।

    उत्तर देंहटाएं
  2. मज़ेदार, हँसाने के लिये शुक्रिया...ब्लॉग जगत में हार्दिक स्वागत है...

    lifemazedar.blogspot.com
    kvkrewa.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस नए चिट्ठे के साथ हिंदी ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं